आकृति:Unreferenced section

गोस्वामी तुलसीदास

हनुमान चालीसा तुलसीदास कs एकटा काव्यात्मक कृति अछि जहिमे प्रभु रामक महान भक्त हनुमान कs गुण एवं कार्य कs चालीस चौपाइ में वर्णन अछि । यी अत्यन्त लघु रचना छी जहिमें पवनपुत्र श्री हनुमान जी कs सुन्दर स्तुति कएल गेल अछि । अहिमे बजरंग बली‍ कs भावपूर्ण वंदना आ , श्रीरामक व्यक्तित्व सरल शब्द मे बर्णन कएल गेल अछि ।

ओना तs समूचा भारत आ हिन्दू समाज मs यी लोकप्रिय छै किन्तु विशेष रूप सं उत्तर भारत मे बहुत प्रसिद्ध एवं लोकप्रिय अछि । लगभग सभी हिन्दु सभक यी कंठस्थ होएत अछि । कहल जाएत अछि कि हनुमान चालीसा पाठ सं भय दूर होएत अछि , क्लेष मिटैत अछि । एकर गंभीर भाव पर विचार करलासं मन में श्रेष्ठ ज्ञानक साथ भक्तिभाव जागृत होएत अछि ।

दोहा

श्रीगुरु चरण सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि।
बरनउँ रघुबर बिमल जसु, जो दायकु फल चारि।।
बुद्धिहीन तनु जानिके, सुमिरौं पवन-कुमार।
बल बुद्धि विद्या देहु मोहिं, हरहु कलेश विकार।।

चौपाई

जय हनुमान ज्ञान गुन सागर
जय कपीस तिहुँ लोक उजागर॥१॥

राम दूत अतुलित बल धामा
अंजनि पुत्र पवनसुत नामा॥२॥

महाबीर बिक्रम बजरंगी
कुमति निवार सुमति के संगी॥३॥

कंचन बरन बिराज सुबेसा
कानन कुंडल कुँचित केसा॥४॥

हाथ बज्र औ ध्वजा बिराजे
काँधे मूँज जनेऊ साजे॥५॥

शंकर सुवन केसरी नंदन
तेज प्रताप महा जगवंदन॥६॥

विद्यावान गुनी अति चातुर
राम काज करिबे को आतुर॥७॥

प्रभु चरित्र सुनिबे को रसिया
राम लखन सीता मन बसिया॥८॥

सूक्ष्म रूप धरि सियहि दिखावा
बिकट रूप धरि लंक जरावा॥९॥

भीम रूप धरि असुर सँहारे
रामचंद्र के काज सँवारे॥१०॥

लाय संजीवन लखन जियाए
श्रीरघुबीर हरषि उर लाए॥११॥

रघुपति कीन्ही बहुत बड़ाई
तुम मम प्रिय भरतहि सम भाई॥१२॥

सहस बदन तुम्हरो जस गावै
अस कहि श्रीपति कंठ लगावै॥१३॥

सनकादिक ब्रह्मादि मुनीसा
नारद सारद सहित अहीसा॥१४॥

जम कुबेर दिगपाल जहाँ ते
कवि कोबिद कहि सके कहाँ ते॥१५॥

तुम उपकार सुग्रीवहिं कीन्हा
राम मिलाय राज पद दीन्हा॥१६॥

तुम्हरो मंत्र बिभीषण माना
लंकेश्वर भये सब जग जाना॥१७॥

जुग सहस्त्र जोजन पर भानू
लिल्यो ताहि मधुर फ़ल जानू॥१८॥

प्रभु मुद्रिका मेलि मुख माहीं
जलधि लाँघि गए अचरज नाहीं॥१९॥

दुर्गम काज जगत के जेते
सुगम अनुग्रह तुम्हरे तेते॥२०॥

राम दुआरे तुम रखवारे
होत ना आज्ञा बिनु पैसारे॥२१॥

सब सुख लहैं तुम्हारी सरना
तुम रक्षक काहु को डरना॥२२॥

आपन तेज सम्हारो आपै
तीनों लोक हाँक तै कापै॥२३॥

भूत पिशाच निकट नहिं आवै
महावीर जब नाम सुनावै॥२४॥

नासै रोग हरे सब पीरा
जपत निरंतर हनुमत बीरा॥२५॥

संकट तै हनुमान छुडावै
मन क्रम बचन ध्यान जो लावै॥२६॥

सब पर राम तपस्वी राजा
तिन के काज सकल तुम साजा॥२७॥

और मनोरथ जो कोई लावै
सोई अमित जीवन फल पावै॥२८॥

चारों जुग परताप तुम्हारा
है परसिद्ध जगत उजियारा॥२९॥

साधु संत के तुम रखवारे
असुर निकंदन राम दुलारे॥३०॥

अष्ट सिद्धि नौ निधि के दाता
अस बर दीन जानकी माता॥३१॥

राम रसायन तुम्हरे पासा
सदा रहो रघुपति के दासा॥३२॥

तुम्हरे भजन राम को पावै
जनम जनम के दुख बिसरावै॥३३॥

अंतकाल रघुवरपुर जाई
जहाँ जन्म हरिभक्त कहाई॥३४॥

और देवता चित्त ना धरई
हनुमत सेई सर्व सुख करई॥३५॥

संकट कटै मिटै सब पीरा
जो सुमिरै हनुमत बलबीरा॥३६॥

जै जै जै हनुमान गोसाई
कृपा करहु गुरु देव की नाई॥३७॥

जो सत बार पाठ कर कोई।
छूटहिं बंदि महा सुख होई॥३८॥

जो यह पढ़ै हनुमान चालीसा।
होय सिद्धि साखी गौरीसा॥३९॥

तुलसीदास सदा हरि चेरा।
कीजै नाथ हृदय मह डेरा॥४०॥

दोहा

पवनतनय संकट हरन, मंगल मूरति रूप।
राम लखन सीता सहित, हृदय बसहु सुर भूप॥

सन्दर्भ

बाहरी कड़ियाँ

हनुमान चालीसाक सम्पूर्ण पाठ

🔥 Top keywords मैथिली Wiki:

सम्मुख पन्नाबगदादए आविकिपिडिया:चबुतराविकिपिडिया:परिचयश्रेणी:पन्नासभ जाहिमे फाइल लिङ्कसभ टूटल हुअएविकिपिडिया:आइ-काल्हिक घटनासभफाइल:James Cook Signature.svgआइएसबिएनआङ सान सुकीसंयुक्त राज्य अमेरिकाजन गण मनअब्दुल कलामशंकर मिश्रअङ्ग्रेजी भाषाऋतुविशेष:खोजफ्रान्समकाउजामुनथारू२७ जुनहिन्दी भाषाढाकाहनुमान चालीसामैथिली भाषाउरी: द सर्जिकल स्ट्राइकसर्गी ब्रिनयुक्रेनफाइल:Catholic Church Spoken Version.oggआकृति:Dayपाकपत्तन जिलामैसूर महलविकिपिडियाआकृति:विशेषाधिकार निवेदनविशेष:RecentChangesअसमिया भाषाफाइल:Wiki letter w.svgलेखनाथ पौड्यालविद्यापतिअप्रैल १८नेपालसंयुक्त राष्ट्र सङ्घहेलन (अभिनेत्री)एप्पल कम्पनीएन्टिगुआ आ बर्बुडा२१ जनवरी१८१५आलिया भट्टगौतम बुद्धचाय१९८९विकिपिडिया:समीक्षक९ मई१ मईवैद्यनाथ मिश्र 'यात्री'सुपाड़ी फूलबेलिजइन्स्टाग्रामविश्वकोशजबरजस्ती वेश्यावृत्तिघरेलु हिंसा आ गर्भावस्थायाहू!२४ मईबहराइनवेब्याक मेसिनट्विटर५ जुनजर्मनीफोर्ब्सविकिपिडिया:नव पृष्ठ कोना आरम्भ करी?जगत गोसाई२५ जनवरी२३ नवम्बरविभा रानीबोरोबुदुरफाइल:Mickey Mouse.pngदिसम्बर ९सोफिया (रोबोट)🡆 More